हमारे  बारे में उत्पाद पैलेट ऋण सेवाएँ जमा न्यूसरूम जानकारी संपर्क संबंधित लिंक होम
   मुख्य पृष्ट > ऋण > संयुक्त देयता समूह (जेएलजी)
संयुक्त देयता समूह (जेएलजी)
प्रयोजन / उद्देश्य*मौखिक पट्टेदार के रूप में भूमि की खेती करनेवाले काश्तकार किसानों या बटईदारों को और ऐसे छोटे किसानों को जो अपने जोत का उचित हक नहीं रखते हैं संयुक्त देयता समूह का गठन करने और उनका वित्तपोषण करने के माध्यम से ऋण प्रवाह बढ़ाना
* जेएलजी तंत्र के माध्यम से लक्ष्य समूह के ग्राहकों को संपार्श्विक मुक्त ऋण प्रदान करना
* काश्तकार किसानों के बीच आपसी विश्वास और भरोसे का निर्माण करना
पात्रता*जेएलजी में काश्तकार - किसान और छोटे किसान होते हैं जो अपनी भूमि का उचित हक न रखते हुए भूमि की खेती करते रहते हैं।
* जेएलजी को एकसमान आर्थिक स्थिति होनी चाहिए और एक संयुक्त देयता समूह के रूप में कार्य करने के लिए सहमत होकर बाहर खेती की गतिविधियां करती रहनी चाहिए
* सदस्यों को एक वर्ष से कम न होनवाली अवधि के लिए कृषि गतिविधियों में लेगे रहना चाहिए.
* जेएलजी सदस्यों को चूककर्ता न रहने चाहिए और एक ही परिवार से नहीं होना चाहिए.
ऋण की मात्राऋण की अधिकतम राशि 50,000 रुपये प्रति व्यक्ति तक सीमित है
ब्याज दर फसल ऋण के लिए:
स्लैब राशि (लाख रुपये में) ब्याज दर
0.50 तक प्रतिशत प्रति वर्ष ( भारत सरकार से ब्याज अनुदान के तहत )

सावधि ऋण के लिए:
स्लैब राशि (लाख रुपये में) ब्याज दर
0.50 तक बीआर+ 0.75+1.00

पुनर्भुगतान अवधिऋण राशि फसल की कटाई की तारीख से 2 महीने के भीतर समायोजित की जानी चाहिए।
जमानतकोई संपार्श्विक नहीं। हालांकि, आपसी जेएलजी सदस्यों द्वारा प्रस्तुत परस्पर गारंटी रिकार्ड पर रखी जाती है.
 
icon : Branch Network शाखा नेटवर्क
icon : Internet Banking इंडनेट बैंकिंग
icon : ATM Network एटीएम नेटवर्क
icon : IndMobile Banking इंडपे मोबाइल बैंकिंग
icon :  Debit Cards डेबिट कार्ड
icon : Credit Cards क्रेडिट कार्ड
  न्यूसरूम
 » अधिसूचनाएँ
 » जमा दरें
 » ऋण दरें
 » सेवा प्रभार / विदेशी मुद्रा दरें
 उत्पाद पैलेट
 » शिक्षा ऋण
 » धन प्रबंधन सेवाएँ
 » डिपॉजिटरी सेवाएँ
 जानकारी
 » बेसल II प्रकटीकरण
 » सूचना का अधिकार अधिनियम
 » ग्राहक केंद्रित सेवाएँ
 » उत्तम आचरण कोड
प्रेस विज्ञप्तियां  |  निविदा / बोली /नीलामी |  करियर  |  डाउनलोड  |  अस्वीकरण  |   | आनलाइन ग्राहक शिकायत