हमारे  बारे में उत्पाद पैलेट ऋण सेवाएँ जमा न्यूसरूम जानकारी संपर्क संबंधित लिंक होम
 अनिवासी भारतीय
 » एनआरआई योजनाएं
 » योजनाएँ एक नज़र में
 » विदेश में शाखाएं
 » एनआरआई इन्फो
 » भारत को विप्रेषण कैसा करें
 » अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
 » विदेशी मुद्रा सलाहकार सेवाएं
 » निवासियों के लिए विदेशी मुद्रा सुविधाएं
 » यूएसए पैट्रियट अधिनियम प्रमाणन
 » स्पीड परिहार
 » एक्सप्रेस मनी
 » मनीग्राम

 
  होम >एनआरआई योजनाएं > आरएफसी योजनाएँ
1. अनिवासी भारतीय द्वारा स्‍थायी रूप से रहने के लिए भारत वापस आने पर खाता खोला जा सकता है।
2. विदेशी मुद्रा में खाता होगा।
3. एन आर ई/एफसीएनआर निधि के हस्‍तांतरण से या विदेशी मुद्रा नोट या यात्री चेक के विप्रेषण द्वारा खातें खोले जा सकते हैं।
4. वापसी के समय भारत के बाहर धारित संपत्ति से प्राप्‍त आगम को आरएफसी खाते में जमा किया जा सकता है।
5. बचत/सावधि जमा खाते के रूप में खाते रहते हैं। नवीनतम ब्‍याज दरों के लिए कृपया हमारे होम पेज पर 'ब्‍याज दरों' का संदर्भ लें।
6. अनुमोदित उद्देश्‍यों के लिए धन (निधि) के विदेश में प्रेषण की स्‍वतंत्रता है।
7. खाताधारक के पक्ष में विदेशों से प्राप्‍त पेंशन, किराया और मौद्रिक लाभ को इस खाते में जमा किया जा सकता है।
8. आरएफसी खातों में निधि विदेशी मुद्रा शेष के उपयोग के संबंध में, भारत के बाहर किसी निवेश पर प्रतिबन्‍ध सहित, सभी प्रतिबन्‍धों से मुक्‍त है।
9. वायदा विनियम रक्षा (कवर) की सुविधा उपलब्‍ध है।
 
icon : Branch Network शाखा नेटवर्क
icon : Internet Banking इंडनेट बैंकिंग
icon : ATM Network एटीएम नेटवर्क
icon : IndMobile Banking इंडपे मोबाइल बैंकिंग
icon :  Debit Cards डेबिट कार्ड
icon : Credit Cards क्रेडिट कार्ड
  न्यूसरूम
 » अधिसूचनाएँ
 » जमा दरें
 » ऋण दरें
 » सेवा प्रभार / विदेशी मुद्रा दरें
 उत्पाद पैलेट
 » शिक्षा ऋण
 » धन प्रबंधन सेवाएँ
 » डिपॉजिटरी सेवाएँ
 जानकारी
 » बेसल II प्रकटीकरण
 » सूचना का अधिकार अधिनियम
 » ग्राहक केंद्रित सेवाएँ
 » उत्तम आचरण कोड
प्रेस विज्ञप्तियां  |  निविदा / बोली /नीलामी |  करियर  |  डाउनलोड  |  अस्वीकरण  |   | आनलाइन ग्राहक शिकायत