राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर1800 425 00 000

संयुक्त देयता समूह (जेएलजी)

संयुक्त देयता समूह (जेएलजी)

प्रयोजन / उद्देश्य :

  • मौखिक पट्टेदार के रूप में भूमि की खेती करनेवाले काश्तकार किसानों या बटईदारों को और ऐसे छोटे किसानों को जो अपने जोत का उचित हक नहीं रखते हैं ।
  • संयुक्त देयता समूह का गठन करने और उनका वित्तपोषण करने के माध्यम से ऋण प्रवाह बढ़ाना ।
  • जेएलजी तंत्र के माध्यम से लक्ष्य समूह के ग्राहकों को संपार्श्विक मुक्त ऋण प्रदान करना ।
  • काश्तकार किसानों के बीच आपसी विश्वास और भरोसे का निर्माण करना ।

पात्रता :

  • जेएलजी में काश्तकार – किसान और छोटे किसान होते हैं जो अपनी भूमि का उचित हक न रखते हुए भूमि की खेती करते रहते हैं।
  • जेएलजी को एकसमान आर्थिक स्थिति होनी चाहिए और एक संयुक्त देयता समूह के रूप में कार्य करने के लिए सहमत होकर बाहर खेती की गतिविधियां करती रहनी चाहिए
  • सदस्यों को एक वर्ष से कम न होनवाली अवधि के लिए कृषि गतिविधियों में लेगे रहना चाहिए.
  • जेएलजी सदस्यों को चूककर्ता न रहने चाहिए और एक ही परिवार से नहीं होना चाहिए.

ऋण राशि :

  • कृषि, संबद्ध कृषि और गैर-कृषि गतिविधि के लिए प्रति समूह अधिकतम : रु. 10,00,000/-  तथा प्रति व्यक्ति अधिकतम रु. 1,00,000/-
  • किरायेदार और मौखिक पट्टेदारों के लिए  प्रति समूह अधिकतम रु. 5,00,000/- तथा प्रति व्यक्ति अधिकतम रु. 50000/- है।

ब्याज दर :

  • कृपया हमारे बैंक की वेबसाइट www.indianbank.in के होम पेज पर ब्याज दर से संबंधित लिंक देखें ।

पुनर्भुगतान अवधि :

  • ऋण राशि फसल की कटाई की तारीख से 2 महीने के भीतर समायोजित की जानी चाहिए।

जमानत :

  • कोई संपार्श्विक नहीं। हालांकि, आपसी जेएलजी सदस्यों द्वारा प्रस्तुत परस्पर गारंटी रिकार्ड पर रखी जाती है.

( अंतिम संशोधन Dec 05, 2022 at 03:12:25 PM )

आद्या से पूछें
ADYA