राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर1800 425 00 000

इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक

इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक


श्री एम के भट्टाचार्य
श्री एम के भट्टाचार्य (आयु  56 वर्ष) ने 18.02.2017 को इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण किया है।

वे1985 में स्‍टेट बैंक ग्रूप में परिवीक्षाधीन अधिकारी के रूप भर्ती हुए और इनकी तैनाती स्‍टेट बैंक आफ मैसूर में हुई। वहाँ उन्‍होंने सहायक महाप्रबन्धक स्तर तक बिभिन्न पदों पर कार्य किया और 2010 में उप महाप्रबंधक कैडर में पदोन्नति हुई और स्‍टेट बैंक आफ हैदराबाद में स्थानांतरण हुआ। वर्ष 2013 में महाप्रबंधक के पद पर पदोन्नति के बाद स्‍टेट बैंक आफ त्रावणकोर में स्थानांतरण हुआ और बिभिन्न पदों को संभाला और वर्ष 2016 में मुख्य महाप्रबंधक कैडर के पद पर पदोन्नति हुई।

स्टेट बैंक ग्रूप में अपने कार्यकाल के दौरान वे विभिन्न पदों पर शाखाओं के प्रभारी रहे और उन्हें पूरे भारत वर्ष में शाखा प्रधान ( 22वर्ष), क्षेत्रीय प्रधान (1वर्ष) और माड्यूल प्रधान (3 वर्ष) के रूप में व्यापक अनुभव है। स्‍टेट बैंक आफ त्रावणकोर में सेवा करते समय, उन्‍होंने बैंक के मुख्य जोख़िम अधिकारी के रूप में भूमिका निभाई और विभिन्न कार्यों जैसे महाप्रबंधक कारोबार रणनीति,  खुदरा बैंकिंग, एनआरआई बैंकिंग तथा बैंक के विदेशी कार्यालयों के नियंत्रण संभाला।

श्री भट्टाचार्य, कॉस्‍ट एण्‍ड वर्क्‍स एकाउण्‍टेंट संस्‍थान के एसोसियेट सदस्‍य (एआईसीडब्‍ल्‍यूए) हैं और वाणिज्‍य में स्‍नातकोत्‍तर उपाधि प्राप्‍त हैं तथा सीएआईआईबी हैं।  इन्‍होंने भारतीय रिजर्व बैंक (सीएएफआरएएल), स्‍टेट बैंक के स्‍टाफ कालेजों तथा अन्‍य प्रतिष्ठित संस्‍थानों के विभिन्‍न सेमिनारों एवं प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लिया है।

 


श्री शेणॉय विश्वनाथ वी
श्री शेणॉय विश्वनाथ वी ने 01.12.2018 को इंडियन बैंक के कार्यपालक अधिकारी का पदभार ग्रहण किया है।

श्री शेणॉय विश्वनाथ वी, मुंबई विश्वविद्यालय से वाणिज्य स्नातक हैं। वे 17 जनवरी, 1985 को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में परिवीक्षाधीन अधिकारी के रूप में भर्ती हुए। वे इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकर्स के एक एसोसिएट सदस्य भी हैं और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा आंतरिक रूप से आयोजित एक वर्ष के प्रबंधन शिक्षा कार्यक्रम में सफलतापूर्वक भाग लिया है। उनके पास 35 वर्षों का बैंकिंग अनुभव है।

उन्होंने ग्रामीण, अर्ध-शहरी, शहरी और मेट्रो केंद्रों के साथ-साथ प्रशासनिक कार्यालयों के विभिन्न क्षेत्रों जैसे शाखाओं, सरल, क्षेत्रीय और वर्टिकल प्रमुख के रूप में कार्य किया। उन्होंने ऋण, सतर्कता, बैंकिंग लेन-देन, ऋण नीति और एमएसएमई, बृहत कॉर्पोरेट के साथ-साथ अध्यक्ष के सचिवालय जैसे विभिन्न वर्टिकल में काम किया। वे वर्टिकलाजेशन और ऋण कार्यों के केंद्रीकरण में एक कोर सदस्य थे । वे भारतीय प्रतिभूतिकरण परिसंपत्ति पुनर्निर्माण और प्रतिभूति स्वत्व केंद्रीय रजिस्ट्री के बोर्ड में एक नामिती निदेशक भी हैं।

( अंतिम संशोधन Nov 15, 2019 at 02:11:32 PM )