राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर1800 425 00 000

बैंक का प्रोफाइल

बैंक का प्रोफाइल

बैंक की स्थापना से लेकर अब तक का संक्षिप्त इतिहास

1907 ·         बैंक को 5 मार्च, 1907 को 20 लाख की अधिकृत पूंजी के साथ स्थापित किया गया और 15 अगस्त, 1907 को बैंक ने अपना व्यवसाय शुरू किया।

·         वर्ष 1907 में, इंडियन बैंक लिमिटेड ने अपने प्रतीक के हिस्से के रूप में ‘बरगद’ वृक्ष को अपनाया था जो प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति, सर्वत्र विकास और निरंतर बढ़ती हुई समृद्धि का द्योतक था।

1921 ·         बैंक की पूंजी रु.20 लाख से बढ़कर रु.60 लाख हो गई।
1932 ·         बैंक ने रजत जयंती मनाई।

·         बैंक ने कोलंबो में पहली विदेशी शाखा खोली।

1941 ·         सिंगापुर शाखा खोली गई।
1957 ·         बैंक ने स्वर्ण जयंती मनाई।
1967 ·         बैंक ने हीरक जयंती मनाई।
1978 ·         एक केंद्रीय बिंदु बनाते हुए तीन चक्करदार तीर के रूप में बैंक के लोगो को स्वीकृति मिली।
1982 ·         बैंक ने प्लेटिनम जुबली मनाई।
1990 ·         157 शाखाओं वाले बैंक ऑफ तंजावुर लिमिटेड (बीओटी) को बैंक के साथ समामेलित किया गया।
2006 ·         महामहिम राष्ट्रपति श्री ए पी जे अब्दुल कलाम द्वारा 4 सितंबर को शताब्दी वर्ष समारोह का उद्घाटन किया गया।
2007 ·         बैंक फरवरी, 2007 में प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव लाया।
2008 ·         100 प्रतिशत कोर बैंकिंग सॉल्यूशंस (सीबीएस) का अनुपालन किया गया।
2019 ·         इंडियन बैंक द्वारा प्रायोजित पल्लवन ग्राम बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक द्वारा प्रायोजित पांडियन ग्राम बैंक के सफल समामेलन के बाद 1 अप्रैल 2019 को ‘तमिलनाडु ग्राम बैंक’ का परिचालन शुरू हुआ।

·         भारत सरकार ने इंडियन बैंक में 155 वर्षों की विरासतवाले इलाहाबाद बैंक के समामेलन की घोषणा की।

2020 ·         बैंक ने 1 अप्रैल, 2020 को समामेलित इकाई के रूप में परिचालन शुरू किया। दोनों बैंकों के सीबीएस सिस्टम का एकीकरण 14.02.2021 को पूरा किया गया।
2022 ·         बैंक ने ₹10 लाख करोड़ से अधिक का वैश्विक कारोबार प्राप्त किया।

 

शाखा नेटर्वक

देशी शाखाएं    : 5728                3 विदेशी शाखाएं एवं 1 आईबीयू

 

यथास्थिति 30.09.2022 को बैंक का निष्पादन

कारोबार :

  • वित्तीय वर्ष 2022 में घरेलू कासा जमाओं के वर्ष-दर-वर्ष 7% वृद्धि होने एवं तिमाही-दर-तिमाही 1% कमी आने से यह रु. 239984 करोड़ हो गया। कुल जमाओं में कासा की हिस्सेदारी गत वर्ष में 40.86% के सापेक्ष सितंबर 2022 में 40.94% हुई। चालू खाते एवं बचत खाते में वर्ष-दर-वर्ष क्रमशः  9% व 7% की वृद्धि हुई।
  • विगत वर्ष में रु. 385730 करोड़ के सापेक्ष सितंबर 2022 में अग्रिमों में 14% की वृद्धि होकर यह रु. 437941 करोड़ हो गए, यह वृद्धि मुख्यतः रैम क्षेत्र (13%) से हुई जिसमें से खुदरा, कृषि व एमएसएमई में क्रमशः 14%,15% व 9% की वृद्धि हुई। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर अग्रिमों में 3% तक की वृद्धि हुई है।
  • तुलन पत्र का आकार 30 सितंबर 2021 में रु. 642164 करोड़ के सापेक्ष वर्ष-दर-वर्ष 5% बढ़कर 30 सितंबर 2022 में रु. 673256 करोड़ हो गया।
  • सितंबर 2021 में रु. 937202 करोड़ के सापेक्ष सितंबर 2022 में कुल कारोबार में वर्ष-दर-वर्ष 10% की वृद्धि दर्ज करते हुए यह रु.1026801 करोड़ हो गया। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर इसमें 2% की वृद्धि हुई।
  • सितंबर 2021 में रु. 551472 करोड़ एवं जून 2022 में रु. 584251 करोड़ के सापेक्ष सितंबर 2022 में कुल जमा वर्ष-दर-वर्ष 7% एवं तिमाही-दर-तिमाही 1% बढ़कर रु. 588860 करोड़ रही।
  • प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र के पोर्टफोलियो में सितंबर 2022 में रु. 158187 करोड़ की वृद्धि हुई जोकि गत वर्ष की इसी तिमाही में रु. 141906 करोड़ थी। प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र के अग्रिमों का प्रतिशत एएनबीसी की 40% की विनियामक आवश्यकता के सापेक्ष 48.25% है।

पूंजी पर्याप्तता

  • वित्त वर्ष 2023 की द्वितीय तिमाही में बैंक का कुल पूंजी पर्याप्तता अनुपात (सीआरएआर) वर्ष-दर-वर्ष 27 बीपीएस की वृद्धि से 16.15% रहा।
  • टियर-I पूंजी में वर्ष-दर-वर्ष 55 बीपीएस की वृद्धि से यह 12.34% के सापेक्ष सितंबर 2022 में 12.89% रही।

आस्ति गुणवत्ता

  • सकल गैर निष्पादक आस्तियों में वर्ष-दर-वर्ष 226 बीपीएस एवं तिमाही-दर-तिमाही 83 बीपीएस की कमी आने से यह सितंबर 2022 में 7.30% रहा।
  • निवल गैर निष्पादक आस्तियां अनुपात सितंबर 2021 में 3.26% के सापेक्ष 30 सितंबर 2022 में घटकर 1.50% रहा।

परिचालन लाभ एवं निवल लाभ

  • बैंक का परिचालन लाभ वित्त वर्ष 2022 की द्वितीय तिमाही में रु. 3276 करोड़ के सापेक्ष वित्त वर्ष 2023 की द्वितीय तिमाही में वर्ष-दर-वर्ष 11% विकास दर्ज कर रु. 3629 करोड़ रहा। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर इसमें 2% की वृद्धि आई।
  • बैंक का निवल लाभ वित्त वर्ष 2022 की द्वितीय तिमाही में रु. 1089 करोड़ के सापेक्ष वर्ष-दर-वर्ष 12% बढ़कर रु. 1225 करोड़ रहा। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार इसमें 1% की वृद्धि आई।

डिजिटल पहल

  • माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 16 अक्टूबर 2022 को राष्ट्र के लिए 75 डीबीयू का लोकार्पण किया गया
  • आईबी रूपी की (स्मार्ट पेमेंट कीचेन) : ‘रुपे ऑन-द-गो कोंटेक्टलेस डिवाइस’ को ग्राहक खाते के साथ लिंक किया गया
  • मोबाइल बैंकिंग ऐप (इंडओएसिस) के माध्यम से एटीएम कार्ड रहित नकदी आहरण
  • नेट/मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से केसीसी का नवीनीकरण
  • मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से जमा पर ओडी (ई-ओडी)
  • नेट बैंकिंग के माध्यम से संयुक्त मीयादी जमा खाता खोला जाना
  • मर्चेन्ट को यूपीआई क्यूआर के माध्यम से प्राप्त होने वाले भुगतान के तत्काल ऑडियो अलर्ट हेतु साउंड बॉक्स दिया गया
  • बीबीपीएस एवं यूपीआई समर्थित फासटैग रीचार्ज सुविधा
  • एमयूपी चालान कलेक्शन के लिए अतिरिक्त विकल्प के तौर पर यूपीआई पेमेंट
  • तमिलनाडु सरकार की स्कॉलरशिप योजना के तहत छात्राओं को को-ब्रैंडिड रुपे डेबिट कार्ड जारी किए गए।

वित्तीय समावेशन

  • दिनांक 16.08.2014 को पीएमजेडीवाई के शुरू होने से अब तक बैंक ने 192.24 लाख आधारभूत बचत बैंक जमा खाते खोले हैं।
  • 111.27 लाख बीएसबीडी खाताधारकों को रुपे कार्ड जारी किये गये।
  • बीसी नेटवर्क की मौजूदगी 24 राज्यों और 05 केंद्र शासित प्रदेशों में है।
  • आईबीए मानक (15.1) के अनुसार सभी बैंक मित्रों को इंटर ओपेरेबल माइक्रो एटीएम/किओस्क एग्रीगेटेड सोल्युशन (केएएस) डिवाइस उपलब्ध करवाई गई है।
  • खातों के आधार पर मार्केट शेयर 4.09% है, बकाया 4.52% है।

 

कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व :

  • बाढ़ राहत कार्य के लिए आसाम मुख्यमंत्री राहत निधि में योगदान किया गया।
  • अन्नदान अभियान, आज़ादी का अमृत महोत्सव के एंकर माह में अनाथालयों एवं वृद्धाश्रमों में महीने भर भोजन वितरण की व्यवस्था की गई।
  • मिड-डे मील योजना के लिए अक्षय पात्र फाउंडेशन पुदुच्चेरी किचन को भोजन वितरण वाहन दिया गया।
  • हर घर तिरंगा अभियान के दौरान समाज के ज़रूरतमंद क्षेत्रों में तिरंगे का वितरण किया गया।

( अंतिम संशोधन Nov 04, 2022 at 02:11:49 PM )

आद्या से पूछें
ADYA