राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर1800 425 00 000

इमेज – प्रधानाचार्य का संदेश

इमेज – प्रधानाचार्य का संदेश

प्रिय साथियों,

मानव पूंजी किसी भी संगठन की सफलता के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधनों में से एक है, यही कारण है कि कर्मचारियों को सबसे मूल्यवान संपत्ति माना जाता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि इस मानव पूंजी का पोषण और विकास एक संरचित प्रशिक्षण प्रक्रिया के माध्यम से किया जाये, जो उनके ज्ञान को अद्यतन करने और कौशल को बढ़ावा देने में सहायक हो।

एक साथ बड़े पैमाने पर हुई सेवानिवृत्ति और नए युवा पदधारियों के आगमन की वजह से विशेषज्ञता और ज्ञान में हुई कमी ,ये सब मिलकर कोविड 19 महामारी, शुरू- शुरू में, प्रत्यक्ष रूप से एक बड़ा झटका था । लेकिन कोविड 19 संकट से उपजी नई वास्तविकताओं ने डिजिटल प्रशिक्षण उपकरणों  की सहायता से निरंतर सीखते रहने के महत्व को रेखांकित किया है।

तदनुरूप, डिजिटल मोड के माध्यम से प्रशिक्षण शुरू किया गया और जिसने तेजी से गति पकड़ी। ऋण, एमएसएमई वित्त, कृषि वित्त, विदेशी विनिमय, ऋण निगरानी, घाटे में चल रही शाखाओं का लाभ में बदलना, लिपिक / परिवीक्षाधीन अधिकारियों के लिए प्रेरणा प्रशिक्षण तथा संगठन को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए सभी कर्मचारियों को विभिन्न क्षमता क्षेत्रों के लिए आवश्यक ज्ञान प्रदान करने एवं कौशल और दृष्टिकोण को विकसित करने के लिए प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म ई पाठशालाको भी नए मॉड्यूल और ई प्रोग्राम के साथ मजबूत किया गया है।

प्रशिक्षण सामग्री, पावर प्वाइंट प्रस्तुतियों और विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों को ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म में पोर्ट किया गया है जिससे सीखना और समझना अधिक सहज और उपयोगकर्ता के अनुकूल बना दिया गया है।

कर्मचारियों को काम के दौरान प्रयोग में लाए जाने के लिए आवश्यक जानकारी और प्रशिक्षण देकर, हम विश्वास और आशा करते हैं कि वे ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने और बैंकिंग में उन्हें सुखद अनुभव प्रदान करने के लिए बेहतरीन रूप से तैयार हैं। सेवा का यह उच्च-गुणवत्ता वाला स्तर पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह ब्रांड इंडियन बैंक की बात करता है और कैसे संकट पर साथ दे सकता है, और ग्राहकों को आराम देकर, हमारी वफादारी सुनिश्चित करके व्यापार को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

आधुनिक शिक्षण समाधान, पारदर्शिता की संस्कृति को अपनाने का अवसर प्रदान करता हैं, जो वास्तविक समय में होनेवाले संचार पर आधारित होता है और विश्वास और वफादारी की ओर प्रेरित करता है, तथा कर्मचारियों की ओर से मांग किए जाने पर दिए जानेवाला प्रशिक्षण उनके  पेशेवर और व्यक्तिगत विकास में निवेश करता है।

सीखने में गतिशीलता प्रदान करने के अलावा, इंडियन बैंक, प्रशिक्षण प्रणाली द्वारा कर्मचारियों को अपनी क्षमता को पहचानने और खुद को नौकरी में एक प्रोफेशनल के रूप में स्थापित करने का प्रयास करता है। कर्मचारी के आंतरिक मूल्य के निर्माण की आवश्यकता और जिम्मेदारी से व्यवसाय करके उन्हें संगठन के लिए एक संपत्ति के रूप में विकसित करने की ओर ध्यान देता है।

हमारे कुशल प्रश्न समाधान पोर्टल “शंका समाधान” ने पिछले कुछ वर्षों में बहुत अधिक प्रोत्साहन प्राप्त किया है, जो कर्मचारियों के नियमित रूप से परिचालनगत समस्याओं के  निवारण में बढ़ती तकनीकी-उन्मुखीकरण का एक स्वस्थ प्रतिबिंब भी है। हमारे मासिक ई-पत्रिकाएँ अर्थात् बैंकिंग अपडेट्स और नॉलेज बैंक,में समसामयिक और दिलचस्प विषयों पर लेख उपलब्ध हैं, जिन्हें हेल्प डेस्क में पोर्ट किया जा रहा है।

हम सभी स्टाफ सदस्यों से अपने ज्ञान को समृद्ध करने और अपने प्रतिस्पर्धियों से आगे निकलने के लिए इमेज पोर्टल में उपलब्ध सभी शिक्षण संसाधनों का उपयोग करने का अनुरोध करते हैं: हेल्प डेस्क >इमेज-> डिजिटल लाइब्रेरी ।

हम आपके सुझावों, प्रतिक्रिया, योगदान और हमारी ज्ञान अर्जन पहलों में और अधिक ताकत जोड़ने के साथ-साथ क्षेत्र स्तर पर व्यावसायिक रणनीतियों के साथ हमारे प्रयासों को मूल रूप से सम्मिलित करने के लिए आपकी सक्रिय भागीदारी का स्वागत करते हैं।

शुभकामनाओं सहित,

प्राचार्य ,इमेज

( अंतिम संशोधन Jun 18, 2022 at 03:06:00 PM )

आद्या से पूछें
ADYA